Home / Religious / विवाहित महिलाओं के लिए बेहद खास है यह पर्व, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा और व्रत का समय

विवाहित महिलाओं के लिए बेहद खास है यह पर्व, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा और व्रत का समय

"
"

सावन का महीना हिंदू धर्म में बहुत ही खास माना जाता है, इस महीने में बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार दस्तक देते हैं। वहीं इन महत्वपूर्ण त्योहारों में हरियाली तीज का विशेष महत्व माना जाता है. यह व्रत प्रतिवर्ष सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। यह व्रत विशुद्ध रूप से विवाहित महिलाओं के लिए है, इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव और माता पार्वती का मिलन हुआ था। इस बार हरियाली तीज 2021 का व्रत 11 अगस्त को दस्तक देने जा रहा है. इस विशेष दिन पर देवी पार्वती को हरे रंग की चीजें अर्पित की जाती हैं, क्योंकि देवी पार्वती को प्रकृति का स्वरूप माना जाता है। अगर आप भी यह व्रत रखने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं इस व्रत से जुड़ी कुछ जरूरी बातें।

"

सावन का महीना बारिश से भीगता रहता है इसलिए चारों तरफ हरियाली नजर आती है। माता पार्वती जी को प्रकृति का स्वरूप माना जाता है, इसलिए उन्हें केवल हरी चीजें ही अर्पित करने का विधान है। हरियाली तीज पर निर्जला व्रत रखा जाता है। आइए अब एक नजर डालते हैं हरियाली तीज की पूजा की विधि पर, अगर यह त्योहार आपके लिए पहली बार है तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखना आपके लिए बेहद जरूरी है। हिन्दू पंचांग के अनुसार सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि मंगलवार 10 अगस्त 2021 को सायं 06:11 से प्रारंभ हो रही है. यह तिथि बुधवार 11 अगस्त को सायं 04:53 तक रहेगी. उदय तिथि के अनुसार इस साल हरियाली तीज का व्रत 11 अगस्त को रखा जाएगा।

सावन का महीना हिंदू धर्म में बहुत ही खास माना जाता है, इस महीने में बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार दस्तक देते हैं। वहीं इन महत्वपूर्ण त्योहारों में हरियाली तीज का विशेष महत्व माना जाता है. यह व्रत प्रतिवर्ष सावन मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। यह व्रत विशुद्ध रूप से विवाहित महिलाओं के लिए है, इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। मान्यता है कि इसी दिन भगवान शिव और माता पार्वती का मिलन हुआ था। इस बार हरियाली तीज 2021 का व्रत 11 अगस्त को दस्तक देने जा रहा है. इस विशेष दिन पर देवी पार्वती को हरे रंग की चीजें अर्पित की जाती हैं, क्योंकि देवी पार्वती को प्रकृति का स्वरूप माना जाता है। अगर आप भी यह व्रत रखने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं इस व्रत से जुड़ी कुछ जरूरी बातें।

हरियाली तीज का देश की हर विवाहित महिला के लिए बहुत महत्व है, यह व्रत देश की हर महिला करती है। महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और सुखी जीवन के लिए यह व्रत रखती हैं। इस दिन देवी पार्वती को हरी चूड़ियां, हरी साड़ी, सिंदूर और मिठाई का भोग लगाया जाता है। पूजा के बाद महिलाएं अपनी सास या जेठानी को सुहाग का सामान भेंट कर आशीर्वाद लेती हैं।

Check Also

भारत के कुछ ऐसे रहस्यमयी मंदिर जहां होती है अविश्वसनीय घटनाएं, जानिए इन घटनाओ का रहस्य

" " भारत 64 करोड़ देवी-देवताओं की भूमि है, जो अपने प्राचीन मंदिरों के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published.