Home / Uncategorized / सीता नहीं तो कौन थी रावण की मौत का कारण ? क्या 4 स्त्रियों का अपमान के अपमान का रहस्य ???

सीता नहीं तो कौन थी रावण की मौत का कारण ? क्या 4 स्त्रियों का अपमान के अपमान का रहस्य ???

"
"

रावण… दशानन, जिसके एक नहीं बल्कि दस सिर थे। हर सिर पर योग्यता का ताज था। शिव का एक शाश्वत भक्त। जिनकी भक्ति से शिव भी मोहित हो गए। कि रावण कभी राम नहीं बन सका, केवल उसके चरित्र की कमजोरियों के कारण। इस प्रकार ब्राह्मण पुत्र रावण एक महान विद्वान था। वह एक कुशल राजनीतिज्ञ, सेनापति और स्थापत्य कला के उस्ताद थे।

"

वह एक धर्मशास्त्री थे और कई विषयों के जानकार थे। लेकिन महिलाओं के प्रति उनकी दुर्भावना के कारण वे राम के हाथों हार गए। नाभि का अमृत भी उसकी रक्षा नहीं कर सका। हम आपको उन चार बुद्धिमान महिलाओं के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके साथ रावण बदसलूकी करना चाहता था। बदले में उनके श्राप के कारण अजेय रावण को काल का गाल मिल गया।

वाल्मीकि रामायण के अनुसार रावण संसार को जीतकर स्वर्गलोक पहुंचा था। वहां वह रंभा नाम की एक अप्सरा पर मोहित हो गए। उन्होंने रंभा को अंकशास्त्री बनने के लिए मजबूर किया। अप्सरा रंभा ने भागने की बहुत कोशिश की। यह भी कहा जाता है कि वह अपने भाई कुबेर के पुत्र नलकुबेर की प्यारी है। इस लिहाज से वह बहू के समान है। रावण ने उसकी एक न सुनी। इसके बाद नलकुबेर ने रावण को श्राप दिया कि यदि वह किसी स्त्री की इच्छा के विरुद्ध उसे छूएगा तो वह मर जाएगी।

जब रावण पुष्पक विमान से कहीं जा रहा था, तो उसकी नजर ध्यान में लीन एक सुंदर स्त्री पर पड़ी। वेदवती नाम की यह महिला विष्णु को पति के रूप में पाने के लिए घोर तपस्या कर रही थी। ऐसे में रावण ने उसे अपने साथ चलने को कहा। मना करने पर बाल पकड़कर पुष्पक के पास खींच लिया। तपस्विनी ने योग शक्ति के बल पर अपना शरीर त्याग दिया और श्राप दिया कि तुम केवल इसी कामुकता और स्त्री के कारण मरोगे।

रावण ने अपनी पत्नी की बड़ी बहन माया पर भी बुरी नजर रखी। माया के पति वैजंतापुर के राजा शंभर थे। जब रावण शम्भर के राज्य में गया, तो वह माया की सुंदरता पर मोहित हो गया। रावण ने माया को जाल में फंसाने की कोशिश की। जिससे कोढरा आए राजा शम्भर ने रावण को बंदी बना लिया। कुछ समय बाद राजा दशरथ से युद्ध करते हुए शम्भर को वीरगति प्राप्त हुई। तब रावण ने माया को अपने साथ ले जाने की कोशिश की। माया ने अपने पति की चिता पर सती होकर रावण को श्राप दिया कि तुम भी युद्ध में मरोगे।

सीता को साध्वी वेदवती का अवतार भी माना जाता है। रावण द्वारा भगवान राम की पत्नी सीता का कपटपूर्ण अपहरण विश्व प्रसिद्ध है। माता सीता के अपहरण के कारण ही राम लंका पर चढ़ते हैं। वाल्मीकि रामायण के अनुसार, जब रावण अशोकवाटिका में विवाह प्रस्ताव लेकर सीता के पास गया, तो माता सीता ने घास के एक तिनके का सहारा लेकर अपने अस्तित्व की रक्षा की और रावण को राम को सुरक्षित वापस करने की चेतावनी दी। नहीं तो राम-लखन के रूप में मौत आपका इंतजार कर रही है।

Check Also

UniformDating review – precisely what do we understand about any of it?

" " UniformDating is actually a interracial lesbian dating site internet site for men/women in …

Leave a Reply

Your email address will not be published.