Home / Indian lifestyle / भानगढ़ के किले का इतिहास, आज भी सजती है यह भूतो की महफ़िल

भानगढ़ के किले का इतिहास, आज भी सजती है यह भूतो की महफ़िल

"
"

एक समय था जब मंदिरों की घंटियों से आस्था की आवाज निकलती थी तो शाम के समय रसिकों को मदहोश करने वाले तवायफों के घुंघरूओं की सांझ होती थी, लेकिन आज वहां भूतों का जमावड़ा है. वैसे तो यहां भूतों को किसी ने नहीं देखा है, लेकिन इनके चर्चे इस कदर हो गए हैं कि आज यह इलाका देश के सबसे बड़े प्रेतवाधित इलाके में गिना जाता है.

"

राजस्थान के अलवर जिले में भानगढ़ भारत के सबसे कुख्यात भूतिया किले के रूप में जाना जाता है। किंवदंती है कि यह किला और भानगढ़ शहर एक ही रात में एक शाप के कारण खंडहर में बदल गया था। तब से यहां केवल खंडहर ही बचे हैं और उनमें भूतों का राज चलता है। रात के समय यहां रुकना सख्त मना है। आज तक कोई इस जगह पर रात बिताने की हिम्मत नहीं कर पाया।

यहां के स्थानीय निवासी बताते हैं कि रात के समय इस किले से हर तरह की भयानक आवाजें आती हैं। उनका यह भी कहना है कि आज तक जो कोई भी रात में इस किले के अंदर गया, वह वापस नहीं आया, लेकिन कितना सच है और भानगढ़ के इस भयावह डर के पीछे कितना मिथक है? इस रहस्य से आज तक कोई पर्दा नहीं उठा सका है।

भानगढ़ अलवर जिले में सरिस्का अभयारण्य के पास स्थित है। अरावली पर्वतमाला की हरी-भरी गोद में बिखरे भानगढ़ के ये खंडहर भले ही भूत-प्रेतों के खौफ से भरे हों, लेकिन एक जमाने में यहां जीवन हुआ करता था। भानगढ़ एक भव्य और आबादी वाला क्षेत्र था। उसके किले और कस्बे में राजसी वैभव बिखरा हुआ था। कहा जाता है कि भानगढ़ का किला आमेर के राजा भगवंत दास ने 1573 में बनवाया था। बाद में मुगल बादशाह अकबर के नवरत्नों में शामिल भगवंत दास के पुत्र मान सिंह के छोटे भाई माधो सिंह ने इसे बनवाया। उसका निवास।

उस समय भानगढ़ का वैभव अपने चरम पर था। किले के अंदर साफ-सुथरे बाजार, सुंदर मंदिर, भव्य महल और तवायफों के आलीशान कमरे इसकी यौवन में वृद्धि करते हैं। रंदियों का महल भी है तो गोपीनाथ, सोमेश्वर, मंगलादेवी और कृष्णकेशव के मंदिर हैं।

भानगढ़ अपने ज़माने की तरह ही शानदार था, इसके विनाश के बारे में जितनी कहानियाँ पढ़ी और सुनी जाती हैं। कहा जाता है कि माधो सिंह की मृत्यु के बाद उसका पुत्र छतर सिंह भानगढ़ का राजा बना, जो 1630 ई. में एक युद्ध में मारा गया। इसके बाद उसके पुत्र अजब सिंह ने भानगढ़ की गद्दी पर विराजमान होकर उससे कुछ दूरी पर अजबगढ़ नाम का किला बनवाया, जो पानी से भरे क्षेत्र में स्थित था।

Check Also

नाग पंचमी मनाने की पौराणिक एवं अध्यात्मिक रहस्य, जानिए आज नाग पंचमी के दिन इनका रहस्य

" " शुक्रवार को बिहार के कई स्थानों पर पारंपरिक तरीके से नागपंचमी का पर्व …

Leave a Reply

Your email address will not be published.